आपके घर की अच्छी सीढ़ी की 9 बुनियादी आवश्यकताएँ

This post is also available in: English (English)

अच्छी सीढ़ी की बुनियादी आवश्यकताएँ

सीढ़ी किसी भी बिल्डिंग का एक महत्वपूर्ण फीचर होता है .सोच विचार कर अच्छी डिजाइनसे बनाई गई सीढ़ियां आपके घर की शानशौकत भी बढ़ाती हैं.चूंकि सीढ़ियां विभिन्न मंजिलों पर आनेजाने अर्थात वर्टिकल आवागमन का माध्यम होती हैं इसलिये वे सीढ़ियां अच्छी मानी जाती हैं जो इस प्रकार डिजाइन की गई हों कि उनसे विभिन्न मंजिलों के बीच आना जाना त्वरित, आसान और सुरक्षित होता हो .अपने घर की सीढ़ियां बनवाते समय उन पहलुओंको ध्यान में रखना चाहिए जो सीढ़ियों को अच्छा बनाने के लिए आवश्यक हैं. जिनमें से कुछ विशिष्टताएं हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं.

अच्छी सीढ़ी की बुनियादी आवश्यकताएँ

01. सीढ़ियों की स्थिति (Location of Staircase):

  • सीढ़ियां ऐसे स्थान पर होनी चाहिए कि बिल्डिंग के विभिन्न कमरों से इन तक पहुंचना आसान हो.
  • सीढ़ियों की स्थिति ऐसी हो कि इनमें जगह भरपूर हो और इन तक पहुंच बिना किसी अड़चन के सुविधाजनक हो .
  • सीढ़ियों में बिल्डिंग के बाहर से प्रकाश आने व इनके हवादार होने का प्रावधान रखना चाहिए.

02. सीढ़ियोंकी चौड़ाई (Width of Stair):

  • इनकी चौड़ाई इतनी पर्याप्त हो कि व्यक्ति बिना किसी असुविधा के इनका उपयोग कर सके .
  • सीढ़ीकी चौड़ाई इनके स्थान पर निर्भर करती है तथा बिल्डिंग के प्रकार के अनुसार बदलती है.
  • आमतौर पर आवासीय बिल्डिंग में 1 मीटर (3.3 फीट) चौड़ी सीढ़ी पर्याप्त होती है वहीं पब्लिक बिल्डिंग्स में सीढ़ियोंकी चौड़ाई5 से 2.0 मीटर (5 से 6.5 फीट) होना जरूरी है.

03. सीढ़ियों में विभिन्न पड़ावों के बीच दूरी लेन्थ ऑफ फ्लाइट (Length of flight):

  • सीढ़ियों केरास्ते चढ़ने उतरने में सुविधा के लिए यह सिफारिश की जाती है कि एक फ्लाइट अर्थात दो पड़ावों के बीच सीढ़ियों की संख्या 12 से अधिक और 3 से कम नहीं होनी चाहिए.यदि डिजाइन इस प्रकार की है कि सीढ़ियों की संख्या 12 से अधिक होती हो तो मध्यवर्ती ठहराव अवश्य दिया जाना चाहिए
सीढ़ियों में विभिन्न पड़ावों के बीच दूरी लेन्थ ऑफ फ्लाइट

04. सीढ़ियों की पिच (Pitch of Stair):

  • किसी भी प्रकार की सीढ़ी में इसकी पिच 37° से अधिक नहीं होनी चाहिए ताकि सीढ़ियों पर चढ़ना कम थकान वाला हो और खतरनाक न हो .

05. हैडरूम (Headroom):

सीढ़ियों में हैडरूम यानि सीढ़ी के स्टैप और छत के बीच कम से कम 2.2 मीटर 7.2) फीट) का खुला स्थान अवश्य होना चाहिए ताकि लंबा व्यक्ति भी सीढ़ियोंका उपयोग आसानी से कर सके

06. जांगला और रेलिंग (Balustrades & Railings):

  • सीढियांचाहे गोल घुमावदार ओपन वैल हों या डिजाइनर हों उनमें उपयोगकर्ताओंकी सुरक्षा के मद्दे नजर जांगला और रेलिंग अवश्य लगानी चाहिए.रेलिंग का आकार प्रकार आवश्यकरूप से ऐसा हो कि यह आसानी से हाथ की पकड़ में आ सके .
जांगला और रेलिंग

07. सीढ़ियों का डायमेंशन (Dimension of Stairs):

  • सीढ़ियों का डायमेंशन इस तरह का हो कि इसके उपयोगकर्ताओंको सहूलियत रहे .सीढ़ी के प्रत्येक पायदान की ऊंचाई और पायदान का ऊपरी तला सम्पूर्ण सीढ़ी में एक समान डायमेंशन का होना चाहिए.

08. वाइंडर्स (Winders):

सीढ़ियों में वाइंडर्स लगाने से यथासंभव बचना चाहिए.ये खतरनाक तो होते ही हैं इनसे प्रॉजेक्टकी लागत भी बढ़ती है

09. निर्माण सामग्री (Material of Construction):

  • सीढ़ियों के निर्माण की सामग्री ऐसी हो कि इनमें पर्याप्त मजबूती हो और वो टिकाऊ , अग्निरोधी तथा ध्वनिरोधी हो और सबसे बड़ी बात यह कि इससे सीढ़ियां सुंदर भी दिखें .

इसलिये अपनी बिल्डिंग में नई सीढ़ियां बनाते समय यह ध्यान रखें कि इनमें ऊपर बताई सभी खूबियां हों जो आपकी सुविधा के लिए जरूरी हैं .

Image Courtesy: Image 3

Best Home Designs

Showcase your Best Designs

More From Topics

Use below filters for find specific topics