सिंगल रूफ़ और डबल रूफ़: चीज़ें जो आपको पता होनी चाहिये!

House Construction

दिसम्बर 18, 2017

This post is also available in: English (English)

घर का एक महत्व पूर्ण घटक होता है – छत, और वह घर के मूल उद्देश्य की पूर्ती करता है- यानी आश्रय प्रदान करता है। छत को दो मुख्य प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है –  फ्लॅट रूफ़ और पिच्ड रूफ़। पिच्ड रूफ़ दो प्रकार की होती हैं:

  • सिंगल रूफ़ 
  • डबल रूफ़ 

01. सिंगल रूफ़

सिंगल रूफ़ में, एक सेंट्रल रिज की हर तरफ केवल एक स्लोप होता है, जबकि शेड़ रूफ़ में, एक स्लोप होता है लेकिन सेंट्रल रिज नहीं होती।

सिंगल रूफ़, स्लोपिंग रूफ़ का एक प्रकार है।इस प्रकार की रूफ़ में, हर स्लोप पर इंटेर्मिडियेट सपोर्ट के बिना कॉमन राफ़्टर्स होते हैं। अन्य रूफ़ की तुलना में सिंगल रूफ़ का कन्स्ट्रकशन आसान है।

सिंगल रूफ़

सिंगलरूफ़में, प्रत्येक राफ्टर को दो जगहों पर सपोर्ट दिया जाता है:

01. सबसे नीचे वॉल प्लेट के माध्यम से दीवार पर।

02. सबसे ऊपर रिज द्वारा।

सिंगल रूफ़ की कुछ सीमाएँ हैं।सिंगल रूफ़ का इस्तेमाल छोटे स्पैन के लिये किया जाता है।यदि अधिक स्पैन का उपयोग किया जाता है, तो बड़े रूफ़ सेक्शन्स की आवश्यकता होती है। सिंगल रूफ़ में, अगर राफ्टर को एक छत जॉइस्ट या बाइंडर के माध्यम से एकसाथ नहीं जोड़ा जाता है, तो सपोर्टिंग वॉल को ऊपर की ओर धक्का देने की इस रूफ़ की प्रकृति होगी, जिससे दीवार गिर सकती है। इसलिये लार्ज स्पैन रूफ़ में, सिंगल रूफ़ की सिफारिश नहीं की जाती।

सिंगल रूफ़ के विभिन्न प्रकार नीचे दिये गये हैं:

  • लीन-टू-रूफ़: सिंगल स्लोप रूफ़, जिसकी उपरी एज दीवार या बिल्डिंग के साथ जुड़ी होती है, उसे लीन-टू-रूफ़ कहा जाता है।
लीन-टू-रूफ़
  • कपल रूफ़: कपल रूफ़ में लकड़ी के दो राफ़्टर्स होते हैं, जो एक दूसरे की विरुद्ध दिशा में झुके होते हैं, और उन्हें सबसे ऊपर जोड़ा जाता हैं।
कपल रूफ़
  • कपल क्लोज रूफ़: कपल क्लोज रूफ़ एक कपल रूफ़ की तरह ही होती है लेकिन कॉमन राफ़्टर्स के लेग्ज एक होरीझोंटल टाई द्वारा जोडे जाते हैं जिसे टाई बीम के रूप में जाना जाता है।
कपल क्लोज रूफ़
  • कोलर बिम रूफ़: दो विपरीत राफ्टरों को इकट्ठा कर के जोड ने और बांधने के लिये लकड़ी या किसी अन्य सामग्री को जोड़ने और बांधने के एक होरीझोंटल टुकड़े को कोलर बीम रूफ़ कहा जाता है और ऐसे कोलर बिम से बने रुफ के कोलर बिम रुफ कहते है।
कोलर बीम रूफ़

02. डबल रूफ़

डबल रूफ़ को एक छत के फ्रेमिंग सिस्टम के रूप में परिभाषित किया गया है जिसमें राफ़्टर्स पर्लीन्स का आधार लेते हैं जो इंटरमिडियट सपोर्ट देते हैं।

डबल रूफ़

डबल रूफ़  में, प्रत्येक राफ्टर को तीन जगहों पर सपोर्ट दिया जाता है:

01. सबसे नीचे; दीवार प्लेट के माध्यम से दीवार पर।

02. सबसे ऊपर; रिज द्वारा।

03. केंद्र में एक पर्लीन द्वारा।

राफ्टर और पर्लीन्स, डबल रूफ़ के मूल तत्व हैं। डबल रूफ़ में, अगर स्पैन की लेन्थ ज्यादा होती है तो उसे इंटर्मीडियट सपोर्ट की आवश्यकता होती है। यह सपोर्ट आमतौर पर एक बीम होता है जो रिज और दीवार प्लेट के बीच एक बिंदु पर, राफ्टर्स के नीचे संरक्षित होता है। इस बीम को पर्लीन के नाम से जाना जाता है। पर्लीन का उपयोग, राफ्टर्स के आकार को कम करने और किफ़ायती तरीके से संरचना बनाने के लिये किया जाता है। अन्य रूफ़ की तुलना में डबल रूफ़ का कन्स्ट्रकशन आसान होता है।

यह भी पढ़े:

किंग पोस्ट ट्रस और क्वीन पोस्ट ट्रस के बीच अंतर
किंग पोस्ट ट्रस: चीज़ें जो आपको पता होनी चाहिये!

Best Home Designs

Showcase your Best Designs

More From Topics

Use below filters for find specific topics