fbpx

भारवाही संरचना की दीवारों में क्षैतिज दरारें (Horizontal Cracks)!

This post is also available in: enEnglish (English)

पारंपरिक निर्माण में, घर के बर्ताव और प्रदर्शन(निष्पादन) में चिनाई की दीवारों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। दीवारों में क्षैतिज दरारें (Horizontal Cracks) स्लैब के विस्तार और संकुचन, स्लैब के विक्षेपण (deflection) और थर्मल प्रभाव से बहुत प्रभावित होती हैं।

दीवारों में क्षैतिज दरारें

दीवारों में क्षैतिज दरारें

घर की आयु के दौरान, ईंट की दीवारों में दरारें जैसे दोष घर की मरम्मत की लागत को बढ़ाते हैं। इसके अलावा यह घर के मालिकों के मानसिक तनाव को भी बढ़ाता है और वे तनाव महसूस करते  हैं।

मेरे घर में ईंट की दीवारों में दरारें किस के कारण हैं?

क्या ये दरारें सामान्य हैं?

क्या यह चिंता करने का समय है?

क्या मेरा घर गिर जायेगा?

घबराओ मत। हम पहले से ही उन कारणों पर चर्चा कर चुके हैं जो भवन निर्माण में दरारें और आरसीसी फ़्रेमयुक्त संरचनाओं की दीवारों में क्षैतिज दरारें को प्रभावित करते हैं। यहां हम भारवाही संरचना (लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर) की दीवारों में क्षैतिज दरार के कारणों पर चर्चा करते हैं और इसे कम करने के लिए निवारक उपाय भी बताते हैं।

Also Read: Why Cracks Occur in Various Part of a Building?

भारवाही संरचनाओं (लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर) की दीवारों में क्षैतिज दरारें (Horizontal Cracks)

01. सीलिंग स्तर पर क्रॉस दीवारों में बाहरी दरारें

सीलिंग स्तर पर क्रॉस दीवारों में बाहरी दरारें।

External Cracks In Cross Walls At Ceiling Level

एक भारवाही संरचना (लोड बेअरिंग स्ट्रक्चर) में, छत के स्लैब का विस्तार और संकुचन होता रहता है। यह सूर्य से गर्मी पाने और खुले आकाश में विकिरण द्वारा गर्मी के लोस के कारण होता है। आरसीसी स्लैब के विस्तार और संकुचन के कारण सीलिंग स्तर पर क्षैतिज दीवारों में दरारें हो सकती हैं।

यदि कोई निकटतम भारी संरचना स्लैब के एक तरफ चलन को रोकती है, तो दीवारों में क्षैतिज दरारें बहुत खतरनाक हो सकती हैं। छत की स्लैब के शीर्ष पर इन्सुलेशन या सुरक्षात्मक आवरण की मोटाई अपर्याप्त होने पर क्षैतिज दरारें होती है।

हमारी राय में, घर के मालिकों को निर्माण के समय ही इस संभावना को रोकने की जरूरत है। यहां छत के स्तर पर दीवार की दरार को रोकने के लिए निवारक उपाय देते है।

  • ऐसी इंसुलेटिंग सामग्री प्रदान करें जिसमें उच्च परावर्तक फिनिश के साथ-साथ गर्मी इन्सुलेशन की क्षमता अच्छी भी हो। यह छत के स्लैब के शीर्ष पर गर्मी को कम करता है। भारत में, लोग IPS के साथ चाइना मोज़ेक तकनीक या ईंट कॉबा का उपयोग करते हैं। जो साथ साथ वाटरप्रूफिंग में भी सहायरूप होता है।

अपने घर के लिए वॉटरप्रूफिंग के महत्व पर हमारी पोस्ट पढ़ें!

चाइना मोज़ेक वॉटरप्रूफिंग

China Mosaic Technique

  • RCC स्लैब के आधार की जगह स्लिप ज्वाइंट प्रदान करें। RCC स्लैब के विस्तार और संकुचन के कारण क्षैतिज दरार को कम करने के लिए स्लैब के आधार की जगह, सभी दीवार तथा  सभी सहायक और कौस दिवार और स्लैब के बीच स्लिप जॉइंट प्रदान करे।
RCC स्लैब के आधार की जगह स्लिप ज्वाइंट

Slip Joint At Support Of RCC Slab

  • दीवार के प्लास्टर और छत के प्लास्टर को अलग करने के लिए प्लास्टर के अंदर 10 से 12 मिमी चौड़ी खांच प्रदान करें।
Also Read: What are Slip Joints in Construction?

02. स्लैब स्तर के नीचे सबसे ऊपरी भाग पर बाहरी क्षैतिज दरारें

स्लैब स्तर के नीचे सबसे ऊपरी भाग पर बाहरी क्षैतिज दरारें

External Horizontal Cracks Below Slab

स्लैब के स्तर के नीचे बाहरी क्षैतिज दरारें स्लैब के झुकाव और भारवाही स्लैब के किनारे के ऊपर उठने के कारण होती हैं। इसी तरह सिकुड़न के कारण स्लैब में क्षैतिज चलन भी स्लैब के स्तर के नीचे की सबसे ऊपरी भाग की दीवारों में क्षैतिज दरार को प्रभावित करती है। अगर स्लैब में बड़े स्पान होते हैं, तो क्षैतिज दरारें अधिक गंभीर होती हैं।

ये दरारें दीवार पर हल्के ऊर्ध्वाधर गुरुत्वाकर्षण भार के कारण घर की सबसे ऊपरी भाग पर होती हैं। स्लैब का अंतभाग बहुत नियंत्रण में न होने की वजह से ऊपर उठता है। निचले मजले पर, ऊपरी मजले का ऊर्ध्वाधर भार कोनों को उठने से रोका जाता है। चलन (movement)पर नियंत्रण होने के कारण दरारो पर भी नियंत्रण रहता है।

Also Read: Why Modern Buildings are Prone to Cracks Compared to Old Buildings?

यहाँ सबसे ऊपरी मजले के स्लैब स्तर से नीचे कोने पर दिखाई देने वाली दीवार की दरार को रोकने के लिए निवारक उपाय हैं।

  • बड़े स्पैन के मामले में, स्लैब और बीम की गहराई बढ़ाएं ताकि यह कठोरता (स्टिफनेस) को बढ़ाएगी। इसके अलावा मोटा स्लैब पानी को भी नहीं आने देगा। इस प्रकार यह दोनों तरीकों से मदद करता है। आम तौर पर टॉप स्लैब की गहराई को 1/2 “या 12 मिमी और संभवतः 1” या 25 मिमी बढ़ाएं। यह स्टील की जरुरत को भी कम करेगा। इसलिए लागत भी नहीं बढ़ेगी।
  • आरसीसी स्लैब के समर्थन में स्लिप ज्वाइंट जैसी विशेष असर व्यवस्था को अपनाना चाहिए।
  • दीवार और छत के जंक्शन पर प्लास्टर में खांच  प्रदान करें ताकि दरारें कम हो जाए।

03. पैरापेट के निचले स्तर पर बाहरी क्षैतिज दरारें

पैरापेट के निचले स्तर पर बाहरी क्षैतिज दरारें। पैरापेट के निचले स्तर पर बाहरी क्षैतिज दरारें

Horizontal Cracks In Parapet Walls

दो अलग-अलग सामग्रियों के जंक्शन पर विकसित होने वाले शीयर स्ट्रेस (कतरनी तनाव) के कारण पैरापेट बेस स्तर पर चिनाई में दरारे दिखाई देती हैं। इसके अलावा, थर्मल और संकोचन प्रभाव के कारण स्लैब में डिफरेंशियल एक्सपांशन (अंतर विस्तार) और संकुचन होता है। अंत में, यह क्षैतिज कतरनी तनाव का कारण बनता है, और इसलिए सबसे ऊपरी भाग में पैरापेट बेस पर बाहरी दरारें विकसित होती हैं। दीवारों में इस तरह की दरारें इसलिए भी विकसित होती हैं क्योंकि ईंट और कंक्रीट के थर्मल गुणांक और शुष्क संकोचन (drying shrinkage)समान नहीं होते हैं।

यह भी पढ़े: दरारों का वर्गीकरण: प्रकृति, चौड़ाई और आकार के आधार पर

ब्रिकवर्क में ऐसी क्षैतिज दरारें ज्यादातर पैरापेट स्तर पर या बालकनी पर होती हैं। वे एक RCC ब्रैकट स्लैब के ऊपर ईंट-कम-लौह सुरक्षा रेलिंग के मुलियन में भी होते हैं। हकीकत तो यह है की पैरापेट और बालकनी सूरज की रोशनी के ज्यादा संपर्क में होती हैं और इस प्रकार तापमान परिवर्तन की एक विस्तृत श्रृंखला के अधीन हैं। इसके अलावा, पैरापेट और सेफ्टी रेलिंग के पास अपने आधार पर क्षैतिज कतरनी बल का सामना करने के लिए अधिक आत्म-वजन भी नहीं है।

Also Read: Investigation & Repairing of Cracks in Brickwork

घर के मालिक को चिनाई में दीवार की दरार को रोकने के लिए निवारक उपाय करने की आवश्यकता है। पैरापेट में क्षैतिज दरारें रोकने के लिए निर्माण के समय निम्नलिखित चीजों का पालन करें।

  • स्लैब डालने के लिए कम संकोचन और कम स्लंप कंक्रीट का उपयोग करें।
  • पैरापेट का ईंटवर्क कम से कम एक महीने बाद शुरू करें। उस समय के दौरान, कंक्रीट पैरापेट दीवार के निर्माण से पहले कुछ सूखने वाले संकोचन से गुजरेगा।
  • ईंटवर्क के लिए न्यूनतम 1: 6 मोर्टार का उपयोग करें और चिनाई और कंक्रीट के बीच उचित बॉन्ड सुनिश्चित करें।
  • दीवार के निर्माण के कम से कम एक महीने बाद प्लास्टर करें। ईंटवर्क और कंक्रीट के जंक्शन पर प्लास्टर में वी-खांच प्रदान करें ताकि जंक्शन पर इसे अलग किया जा सके।
  • ईंट और कंक्रीट के जंक्शन पर चिकन तार से फिनिशिंग करे।
  • लोहे की रेलिंग लगाने के लिए में ईंटवर्क के बदले आरसीसी दीवार का उपयोग करें।

04. सबसे बाहरी भाग में लिंटेल / सील स्तर पर दीवारों में बाहरी क्षैतिज दरारें

लिंटेल / सील स्तर पर दीवारों में बाहरी क्षैतिज दरारें

External Horizontal Cracks in walls At Lintel/Sill Level

दीवारों में इस प्रकार की बाहरी क्षैतिज दरारें सबसे ऊपरी भाग के स्लैब द्वारा दीवार पर खिंचाव के कारण होती हैं। दीवार पर आ रहा खिंचाव संकोचन और थर्मल संकुचन का एक परिणाम है। ईंट की दीवारों में इस प्रकार की दरारें तब भी होती हैं, जब खिड़की और कमरे के फैलाव बड़े होते हैं।

घर की ऊपरी मंजिल में लिंटेल / सील स्तर पर दीवार दरारें रोकने के लिए निवारक उपाय का उपयोग करें।

  • सबसे ऊपरी मंजिल में स्लैब/बीम और आधार देने वाली दीवारों के बीच स्लिप जॉइंट्स प्रदान करें।
  • दीवार की पूरी लंबाई में से सील और लिंटेल स्तर पर पर्याप्त मोटाई के साथ आरसीसी लिंटेल /बैंड प्रदान करें।

05. सबसे ऊपरी मंजिल पर कोनों की ईंट की दीवारों में बाहरी क्षैतिज दरारें

सबसे ऊपरी मंजिल पर कोनों की ईंट की दीवारों में बाहरी क्षैतिज दरारें

External Horizontal Cracks In Brick walls of Top Most Storey Corners

इस प्रकार की दरारें तब दिखाई देती हैं जब स्लैब का कोना दोनों दिशाओं में स्लैब में झुकाव के कारण लंबवत ऊपर की ओर उठता है। निचली मंजिल को, ऊपरी मंजिल के ऊर्ध्वाधर भार स्लैब कॉर्नर को उपर उठने से रोकाता है। इसलिए दरारें केवल घर के शीर्ष मंजिला कोने में होती हैं।

घर के सबसे ऊपरी मंजिला पर कोनों में क्षैतिज दीवार दरारें रोकने के लिए निम्नलिखित निवारक उपायों का उपयोग करें।

  • स्लैब के कोनो पर पर्याप्त स्टील प्रदान करें।
Also Read: Classification of Loads on Structure

06. ढाल वाली छत (pitched roof) में ईंटों की दीवारों और लकड़ी के ट्रस के साथ क्षैतिज दरारें

ढाल वाली छत (pitched roof) में ईंटों की दीवारों और लकड़ी के ट्रस के साथ क्षैतिज दरारें

Horizontal Cracks In Brick Walls At Eaves Level

लकड़ी की छत वाले घर के अंदर ईव्स स्तर पर ईंट की दीवारों में क्षैतिज दरारें पाई जाती हैं। क्षैतिज दरारें तब होती हैं जब घर बहुत पुराना हो जाता है। वे तब भी होते हैं जब मिट्टी के टाइल या पटियाका उपयोग घर के निर्माण के लिए छत सामग्री के रूप में किया जाता है। कभी-कभी, सूखी सड़ांध या फंगल अटैक के कारण ढाल वाली छत (pitched roof) की लकड़ी कमजोर हो जाती है, इसलिए लकड़ी के ट्रस का समर्थन करने वाली दिवारो पर ट्रसद्वारा दीवार पर बाहरी दबाव के कारण बाहरी दरारें दिखाई देती हैं।लकड़ी के बने छत वाले घर में दरारों से बचने के लिए निम्नानुसार निवारक उपाय करें।

  • छत के लिए हल्के वजन की सामग्री का उपयोग करें जैसे कि G.I शीट्स, A.C शीट इत्यादि।
  • लकड़ी के काम के लिए एंटी-फंगल उपचार प्रदान करें।
  • बाहरी दीवार में स्टील की टाई प्रदान करें जो ट्रस को आधार देती है।
Also Read: Roof & Its Classification

07. ईंटों की दीवारों के मोर्टार जोड़ों में बाहरी / आंतरिक क्षैतिज दरारें

ईंटों की दीवारों के मोर्टार जोड़ों में बाहरी / आंतरिक क्षैतिज दरारें
  • इस तरह की दरारें निर्माण के दो या तीन साल बाद दिखाई देती हैं। सल्फेट के हमले के कारण मोर्टार के जोड़ों के कमजोर होने पर क्षैतिज दरारें होती हैं।
  • निर्माण के समय सल्फेट प्रतिरोधक सामग्रियों के उपयोग को छोड़कर, इन दरारों के खिलाफ कोई प्रभावी उपचारात्मक उपाय नहीं है।

08. पार्टीशन की दीवारों में क्षैतिज दरारें

आधी ईंट की दीवारों में दरारें और उससे उपायों पर हमारी पोस्ट पढ़ें। यह आपको पार्टीशन दीवारों में क्षैतिज दरारें और इनके निवारक उपायों के बारे में मार्गदर्शन करेगा।

अंत में, याद रखें की , चाहे दरारें आंतरिक हों या बाहरी, वे हमेशा लोगों के लिए सिरदर्द होती हैं। अंत में, मरम्मत की लागत को कम करने के लिए क्षैतिज दरारें के सटीक कारणों को जानना बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आपको दीवारों में दरारें सुधारने की आवश्यकता होती है, तो ईंटवर्क में दरारों की जांच और मरम्मत का सबसे अच्छा तरीका भी पढ़ें।

Also Read:

Diagonal Cracks in Brick Walls and Its Measures
Vertical Cracks in Brick Walls of RCC Frame Structure
Horizontal Cracks in Walls of RCC Framed Structure

Image Courtesy – Image 1

Author

Mentor

--

Editor

--

Best Home Designs

Showcase your Best Designs

Material Exhibition

Explore the world of materials.
Exhibit your Brands/Products.

More From Topics

Use below filters for find specific topics